कोलोन और मलाशय कैंसर

विश्व में कैंसर से पीडि़त लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। भारत भी इसका अपवाद नहीं है। विश्व में विभिन्न प्रकार के कैंसरों से पीडि़त हर तीन में से एक व्यक्ति कोलन या बड़ी आंत के कैंसर से ग्रस्त है। कोलन या बड़ी आंत का कैंसर अब लाइलाज नहीं रहा। मेडिकल साइंस में हुई प्रगति के चलते अब इस मर्ज का समय रहते कारगर इलाज संभव है। आइए कोलन कैंसर के बारे में विस्‍तार से जानते हैं।

बड़ी आंत में कैंसर के कारण

कोलन कैंसर के पनपने का एक प्रमुख कारण तब सामने आता है, जब बड़ी आंत की स्वस्थ कोशिकाओं में बदलाव आने लगता है। इस कैंसर के संभावित कारणों में आनुवांशिक कारण भी शामिल है। धूम्रपान, रेड मीट और जंक फूड्स खाना भी इस कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। लगातार लंबे वक्त तक कब्ज का बने रहना भी इस कैंसर का कारण बन सकता है। जो लोग फैमिलियल एडोनोमेटस पॉलीपोसिस नामक बीमारी से ग्रस्त हैं, उनमें कोलन कैंसर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।

बड़ी आंत में कैंसर के लक्षण

  • मल में रक्त आना।

  • एनीमिया(खून की कमी) होना।

  • पेट में दर्द होना।

  • भूख न लगना और वजन कम होना।

  • पेट फूलना

  • रेक्टम या मलाशय का पूरी तरह खाली नहीं होना। कमजोरी महसूस करना।