पथरियां ( किडनी स्टोन्स )

किडनी की पथरियां (Kidney stones) संकेंद्रित सघन खनिजों (concentrated crystallized minerals) के छोटे-छोटे कठोर जमाव होते हैं। ये पत्थर पीड़ित के मूत्रमार्ग में अटक जाते हैं और ये मध्यम से बहुत ज्यादा दर्द का कारण बन सकते हैं। छोटा तथा बड़े पत्थरों को बाहर निकालने के लिए मरीज को पेशेवर मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ सकती है।

कारण पर आधारित इलाज के बारे में पूछें: डॉक्टर की सलाह पर दिए जाने वाले कुछ इलाजों (prescription medications) का उपयोग केवल निश्चित समस्याओं के कारण बनी पथरी के उपचार के लिए ही किया जाता है। वहीँ कुछ इलाज आपकी किडनी की पथरी (kidney stone) को निकालने में सहायता कर सकते हैं, दूसरे इलाजों का उपयोग मुख्य रूप से किडनी की पथरी (kidney stone) को बनने से रोकने के लिए किया जाता है।

  • कैल्शियम आधारित पथरियां किडनी की पथरियों (kidney stone) का सबसे आम प्रकार है। इनका इलाज करने के लिए उपयोग किए जाने वाली दवाओं में थिअज़ाइड्स (thiazides), पोटैशियम सिट्रेट्स (potassium citrates), और ऑर्थोफोस्फेट्स (orthophosphates) शामिल हैं।

  • यूरिक एसिड (Uric acid) के कारण बनने वाली पथरियों की संख्या 5 से 10 प्रतिशत तक पाई जाती है। पोटैशियम सिट्रेट्स (potassium citrates), सोडियम बाइकार्बोनेट (sodium bicarbonate), और एलोपुरिनोल (allopurinol) का उपयोग इनके इलाज के लिए किया जाता है।

  • सिस्टीन (Cystine) की पथरी बहुत ही कम पाई जाती हैं और सामान्यतः इनका इलाज पोटैशियम सिट्रेट्स (potassium citrates), पेनीसिलामाइन (penicillamine), टिओप्रोनिन (tiopronin), या केप्टोरिल (captopril) से किया जाता है।

  • स्टुरुवाइट (Struvite) पथरी बार बार होने वाले किडनी के संक्रमण या इन्फेक्शन के परिणामस्वरुप होती हैं और दवाओं के साथ इनका इलाज मुश्किल हो सकता है। संभवतः आपका डॉक्टर वर्तमान संक्रमण या इन्फेक्शन के इलाज के लिए एंटीबायोटिक (antibiotic) की सलाह देगा और वह आपको यूरीस इन्हीबिटर (urease inhibitors) की सलाह भी दे सकता है।